पोस्ट ऑफिस की रिकरिंग डिपॉजिट स्कीम: 166 रुपये रोजाना जमा कर बनाएं 8 लाख रुपये

Post Office Recurring Deposit Scheme: भारतीय डाकघर की रिकरिंग डिपॉजिट स्कीम (RD) एक सुरक्षित और लाभदायक निवेश योजना है। इस स्कीम में आप हर महीने एक निश्चित राशि जमा करते हैं और 5 साल बाद मैच्योरिटी पर आपको पूरी राशि ब्याज सहित मिल जाती है।

वर्तमान में, पोस्ट ऑफिस की रिकरिंग डिपॉजिट स्कीम पर 6.7% का ब्याज मिल रहा है। अगर आप हर महीने 166 रुपये जमा करते हैं, तो 5 साल बाद आपकी जमा राशि 8 लाख रुपये हो जाएगी। इसमें से 6.7% ब्याज के रूप में आपको 2 लाख 22 हजार रुपये मिलेंगे।

इस तरह, आप महज 166 रुपये रोजाना जमा कर 8 लाख रुपये बना सकते हैं।

Highlights

  • पोस्ट ऑफिस की रिकरिंग डिपॉजिट स्कीम में हर महीने 166 रुपये जमा कर 8 लाख रुपये बनाए जा सकते हैं।
  • इस स्कीम में 6.7% का ब्याज मिलता है।
  • स्कीम की मैच्योरिटी 5 साल है।
  • स्कीम में लोन की सुविधा भी मिलती है।

रिकरिंग डिपॉजिट स्कीम के अन्य लाभ:

  • इस स्कीम में लोन की सुविधा मिलती है। आप अपनी जमा राशि का 50% तक लोन ले सकते हैं।
  • स्कीम की मैच्योरिटी के बाद आप इसे 5 साल के लिए और बढ़ा सकते हैं।
  • इस स्कीम में एक व्यक्ति कितने भी अकाउंट खुलवा सकता है।
  • आप अपने नाम, अपने परिवार के सदस्यों के नाम या अपने बच्चे के नाम पर भी अकाउंट खुलवा सकते हैं।

यह भी पढ़े- जीरो बैलेंस पर 10,000 रुपये तक का ओवरड्राफ्ट: प्रधानमंत्री जन धन योजना के तहत बैंक खाते के लाभ

यह भी पढ़े- आधार कार्ड को ईमेल आईडी से लिंक करना क्यों जरूरी है? जानिए पूरी जानकारी

यह भी पढ़े- 5 से 10 लाख रुपये तक के इलाज का कवर, आयुष्मान कार्ड के लिए पात्रता व आवेदन प्रक्रिया जानें

रिकरिंग डिपॉजिट स्कीम में निवेश कैसे करें?

रिकरिंग डिपॉजिट स्कीम में निवेश करने के लिए आपको किसी भी पोस्ट ऑफिस में जाकर आवेदन करना होगा। आवेदन के लिए आपको निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होगी:

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • बैंक खाता विवरण

अगर आप ऑनलाइन आवेदन करना चाहते हैं, तो आप इंडिया पोस्ट की वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं।

निष्कर्ष:

पोस्ट ऑफिस की रिकरिंग डिपॉजिट स्कीम एक सुरक्षित और लाभदायक निवेश योजना है। इस स्कीम में कम निवेश करके भी अच्छी कमाई की जा सकती है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *