नई दिल्ली: राष्ट्रीय पेंशन सिस्टम (National Pension System) की कलकुलेशन: जीवन में कई कदम बढ़ाते हुए, रिटायरमेंट का समय आता है जब आप नौकरी या वर्किंग स्थिति से बाहर होते हैं। इस समय आपकी आय कम हो जाती है, लेकिन जीवनशैली बरकरार रखने के लिए आपको विवेकी निवेश की आवश्यकता होती है।
खासकर, यदि रिटायरमेंट के लिए आपने कोई योजना नहीं बनाई है, तो आपको नॉन वर्किंग ईयर्स (नौकरी समाप्त होने के बाद की जीवनशैली) में धन की कमी का सामना करना पड़ सकता है, जिससे रिटायरमेंट में सुखी और स्वावलंबी जीवन जीना मुश्किल हो सकता है। बैंकीय बचत से ही यह संभव नहीं है, इसलिए रिटायरमेंट से पहले एक अच्छी फाइनेंशियल प्लान बनाना महत्वपूर्ण है।
कई लोग इस बात को भूल जाते हैं कि समय रहते रिटायरमेंट की प्लानिंग करना अत्यंत महत्वपूर्ण है। कुछ लोग इस समय तक निवेश करने की क्षमता से वंचित रहते हैं, जिनकी आय कम होती है और वे महीने के खर्चों के बाद बचत करने का कई सोच पाते हैं, जिसके परिणामस्वरूप रिटायरमेंट फंड में निवेश का विचार करना दुश्मन हो जाता है।
ऐसे लोग भी हैं जो अपनी मौजूदा जीवनशैली और रिटायरमेंट के बाहर भी अन्य लक्ष्यों पर ही धन खर्च कर देते हैं, जिनके पास रिटायरमेंट फंड बनाने के लिए निवेश का विकल्प नहीं होता है। यह एक बड़ी भूल है, क्योंकि उन्हें अपने आज के लक्ष्यों को सुरक्षित रखने के साथ-साथ भविष्य में भी सुनिश्चित रखना चाहिए।

NPS में निवेश करने का हक़

एनपीएस (National Pension System) के तहत निवेश करने का अधिकार 18 साल से 70 साल की आयु सीमा के बीच में होता है। इसमें निवेश के लिए आवश्यक है कि आपकी आय निर्धारित हद से कम न हो, और आपको एनपीएस के लिए आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज हों। एनपीएस में निवेश की अवधि कम से कम 20 वर्ष होनी चाहिए। खाते को खोलने के बाद, 60 वर्ष की आयु तक निवेश करना आवश्यक है।
एनपीएस में जमा की गई राशि को निवेश करने की जिम्मेदारी पेंशन फंड मैनेजर को दी जाती है, जो इसे इक्विटी, सिक्योरिटी, और गवर्नमेंट सिक्योरिटीज के अलावा फिक्स्ड इनकम में निवेश करता है।

पेंशन की कैलकुलेशन

यदि आप 40 साल की आयु में एनपीएस में निवेश करना शुरू करते हैं, तो हर महीने 15,000 रुपये का निवेश करें। इसके बाद, आपका कुल निवेश 36 लाख रुपये हो जाएगा। अनुमानित रिटर्न 8% सालाना है, जिससे कुल कॉर्पस 88.9 लाख रुपये होगा, जिसमें से कुल लाभ 52.94 लाख रुपये है। इसके बाद, आप मासिक 23,718 रुपये की पेंशन प्राप्त कर सकते हैं।

SWP प्लानिंग क्या है?

इसमें रिटायरमेंट के लिए 53.36 लाख रुपये जमा होते हैं, जिनमें से 13 लाख रुपये आप अपने बैंक खाते में इमरजेंसी के लिए छोड़ सकते हैं और बचे हुए 40 लाख से एसडब्ल्यूपी (Systematic Withdrawal Plan) में निवेश कर सकते हैं। इसमें कुल 40 लाख रुपये जमा होते हैं, जिनमें 10% का अनुमानित रिटर्न है।
मासिक वापसी 35,000 रुपये की है और इसकी अवधि 25 वर्ष है। फाइनेंशियल वैल्यू के हिसाब से, इसमें 1,72,452 रुपये मिलेंगे, जिसका अर्थ है कि 25 वर्षों तक महीने के 35,000 रुपये की वापसी के बाद भी म्यूचुअल फंड में 1,72,452 रुपये सुरक्षित रहेंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *