नई दिल्ली: जब घर में पीएफ कर्मचारी होते हैं, तो रिटायरमेंट के बाद मिलने वाली पेंशन से उन्हें मिलेगी एक नई खुशी का अहसास। यह समाचार किसी बड़ी उपहार की तरह है, क्योंकि प्राइवेट कर्मचारियों के लिए सरकार द्वारा चलाई जा रही ईपीएस योजना उनकी सोशल सिक्योरिटी के लिए एक महत्वपूर्ण स्रोत है।

रिटायरमेंट के बाद मिलेगी सुरक्षित पेंशन

प्राइवेट नौकरी से रिटायर होने के बाद, किसी अच्छी पेंशन का आवंटन आपको हो सकता है। इससे लाभ प्राप्त करने के लिए आपको किसी भी कठिनाई का सामना करने की आवश्यकता नहीं होगी, और यह सिर्फ सरलता से मिलेगा, जो हर किसी को आकर्षित करेगा।

ईपीएस योजना: बंपर पेंशन का सोचा-समझा तरीका

ईपीएस योजना कर्मचारियों को एक बंपर पेंशन का वादा कर रही है, जिससे उन्हें बहुत लाभ होगा। इसमें पेंशन के लिए आवश्यक सेवा को 35 वर्ष तक बढ़ावा दिया गया है। यदि कोई कर्मचारी 58 साल का है, तो उसे पेंशन का हकदार माना जाएगा। EPS पेंशन की अधिकतम राशि 1,000 रुपये है।

यह भी पढ़े- साउथ सिनेमा का 2024, 10 बड़ी फिल्मों पर 2750 करोड़ का दांव, देखें रिलीज़ डेट

यह भी पढ़े- भारतीय सरकारी अधिकारियों की सैलरी: नरेंद्र मोदी से लेकर सभी की सरकारी इनकम

पेंशन की हासिल करने के लिए आवश्यक शर्तें

पेंशन के लिए कम से कम 10 साल तक नौकरी करना आवश्यक है। साथ ही, 50 साल के बाद और 58 साल से पहले भी पेंशन लेने का विकल्प होता है। पहले पेंशन लेने पर घटी हुई पेंशन का लाभ होगा, और इसके लिए आपको फॉर्म 10D भरना होगा।

कैसे होती है पेंशन की गणना

पेंशन की गणना के लिए आपको एक सरल फ़ॉर्मूला अपनाना होगा। EPS = औसत सैलरी x पेंशनेबल सर्विस/70। यहां औसत सैलरी का मतलब बेसिक सैलरी+DA है, और निकालने के लिए पिछले 12 महीनों का आधार लिया जाता है।

यह भी पढ़े- मल्टी-कैप बनाम फ्लेक्सी-कैप फंड: समझें निवेश का सही रास्ता

यह भी पढ़े- Sukanya Samriddhi Yojana! 0.2% की वृद्धि के साथ हुई 8.2% तक बड़ी आयी खुशखबरी

इस राशि का अधिकतम 35 वर्षों की सेवा के लिए होता है और फॉर्मूला के अनुसार गणना करने से आपको प्रति महीने 7,500 रुपये की पेंशन मिलेगी। यह निर्भीक विकल्प प्राइवेट नौकरी करने वालों के लिए रिटायरमेंट का एक शानदार उपहार है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *