Paper Leak: राजस्थान पेपर लीक मामले में जालौर से एक युवती को पुलिस ने गिरफ्तार किया है, जिसका नाम संजू पटेल है। उस पर लगाए गए आरोप के अनुसार, युवती ने एसआई भर्ती परीक्षा में पुलिस अधिकारी बनवाने का झांसा देकर 54 लाख रुपये ठग लिए थे। पुलिस इस मामले में अन्य आरोपियों को भी पकड़ने के लिए कड़ी छापेमारी कर रही है।
यह मामला जोधपुर का है, जहां संजू उर्फ सणगी पटेल ने एक व्यक्ति को जोधपुर पुलिस में एसआई आरएसएस पद पर चयन का झांसा देकर 54 लाख 40 हजार रुपये ठग लिए थे। इसके बाद, युवती को गिरफ्तार किया गया है और अन्य आरोपियों की तलाश जारी है।
आरोपी युवती को पूछताछ के बाद कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। इस मामले में धोखाधड़ी के आरोपी औरत के साथ सुखदेव बिश्नोई भी जुड़े हैं।
जांच अधिकारी रामभरोसी के मुताबिक, पुलिस ने इसे लज्जरी कार चोरी मामले में गिरफ्तार कर लिया है और उसे कोर्ट के आदेश पर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।
इस मामले के बारे में सामाजिक मीडिया पर गूंथी जा रही है, क्योंकि आरोपी लड़की संजू पटेल का सोशल मीडिया पर बड़ा फैन फॉलोइंग है।
संजू पटेल के इंस्टाग्राम पर 2 लाख से ज्यादा फॉलोअर्स हैं और उसे 2018 के पंचायतीराज चुनावों में सरपंच पद के लिए प्रत्याशी भी रही थी।
संजू पटेल के भाई बगदाराम का कहना है कि संजू को 2015 से 2018 तक पढ़ाई के लिए जोधपुर भेजा गया था और उसके बाद से वह घर पर है। उनके अनुसार, संजू को ब्लैकमेल करके फंसाने का प्रयास किया जा रहा है।
जालौर से यह गिरफ्तारी हुई तो सोशल मीडिया पर खासी चर्चा में रही है। इस मामले में संजू पटेल के सोशल मीडिया प्रोफ़ाइल का विश्लेषण करने पर पता चला है कि उसके इंस्टाग्राम पेज पर उसकी व्यक्तिगत तस्वीरें और जीवनशैली को लेकर लोग बहुत अधिक रुचि रखते हैं।
इस मुद्दे में पुलिस ने यह भी जाँच कर रही है कि क्या गिरफ्तार युवती के सोशल मीडिया प्रोफाइल का उपयोग किसी अन्य आपराधिक गतिविधियों में हुआ है या फिर इसमें कोई अन्य अवैध गतिविधि की ओर संकेत है।
इस दौरान, गिरफ्तार युवती के परिवार द्वारा भी जवाबी कदम उठाए जा रहे हैं। उनके भाई ने कहा, ‘हमारी बहन पिछले कई सालों से शिक्षा में लगी हुई है और उसने सब कुछ ईमानदारी से किया है। हमारी बहन को ब्लैकमेल करने का प्रयास हो रहा है और हम इसे बिल्कुल गलत मानते हैं।’
संजू पटेल के मामले में इस समय और भी आपराधिक रहस्यों की खोज जारी है ताकि मामले की सच्चाई सामने आ सके और गिरफ्तार युवती की भूमिका को स्पष्टता से समझा जा सके।”
ध्यान दें: यह उत्तर प्रदान की गई जानकारी का पुनर्रचना करके प्रासंगिक सूचना को सुरक्षित करने के लिए है, साथ ही मौलिक जानकारी को सही रखने का प्रयास किया गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *