New Delhi: भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने बैंकों के लिए नॉन-कॉलेबल एफडी पर समय से पहले पैसे निकालने की सीमा बढ़ा दी है। अब 15 लाख रुपए से बढ़ाकर 1 करोड़ रुपए तक की राशि समय से पहले निकाली जा सकेगी। यह बदलाव तत्काल प्रभाव से लागू हो गया है।

Heading

  • नॉन-कॉलेबल एफडी पर समय से पहले निकाले जा सकने वाली राशि बढ़ी
  • 15 लाख से बढ़ाकर 1 करोड़ रुपए हुई न्यूनतम राशि
  • जुर्माना कम होने की उम्मीद

मुख्य बिंदु:

  • भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने नॉन-कॉलेबल एफडी पर समय से पहले निकाले जा सकने वाली राशि को बढ़ा दिया है।
  • अब 15 लाख रुपए से बढ़ाकर 1 करोड़ रुपए तक की राशि समय से पहले निकाली जा सकेगी।
  • इससे निवेशकों को नकदी की जरूरत पड़ने पर राहत मिलेगी।
  • साथ ही, जुर्माने में भी कमी होने की उम्मीद है।

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने बैंकों के लिए नॉन-कॉलेबल एफडी पर समय से पहले पैसे निकालने की सीमा बढ़ा दी है। अब 15 लाख रुपए से बढ़ाकर 1 करोड़ रुपए तक की राशि समय से पहले निकाली जा सकेगी। यह बदलाव तत्काल प्रभाव से लागू हो गया है।

यह भी पढ़े-अमीर बनने का आसान तरीका, बस अपनाएं ये 5 टिप्स

यह भी पढ़े- 20 रूपये के इस गुलाबी नोट से कमाए 4 लाख रूपये, जाने इसकी खासियत

यह भी पढ़े- केंद्रीय कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी, जल्द मिलेंगे 2 लाख 18 हजार रुपये

यह भी पढ़े- LIC आधार शिला योजना: महिलाओं के लिए 87 रुपये की रोजाना बचत से 11 लाख रुपये का फायदा

नॉन-कॉलेबल एफडी वह एफडी है जिसमें समय से पहले पैसे निकालने पर जुर्माना लगता है। यह जुर्माना राशि की 1% से 2% तक हो सकता है। हालांकि, RBI के इस नए नियम के बाद जुर्माने में कमी होने की उम्मीद है।

इस बदलाव से निवेशकों को नकदी की जरूरत पड़ने पर राहत मिलेगी। अब उन्हें 15 लाख रुपए से अधिक की राशि के लिए समय से पहले एफडी तोड़ने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

RBI के इस फैसले का स्वागत किया गया है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि इससे निवेशकों को नकदी की जरूरत पड़ने पर राहत मिलेगी और साथ ही, जुर्माने में भी कमी होने की उम्मीद है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *