IND VS ENG: भारत और इंग्लैंड के बीच पांच टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला मैच हैदराबाद में खेला जा रहा है। इस मैच में इंग्लैंड की टीम ने जेम्स एंडरसन को नहीं खिलाया। इस फैसले पर कई पूर्व अंग्रेज खिलाड़ी भी बेचैन हो गए हैं।

Highlights: 

  • जेम्स एंडरसन को हैदराबाद टेस्ट से बाहर करने पर नास‍िर हुसैन ने उठाए सवाल
  • एंडरसन भारत में खेलने के माहिर हैं, और उन्होंने यहां 139 विकेट लिए हैं
  • एंडरसन 700 विकेट लेने के करीब हैं, और इस दौरे पर यह रिकॉर्ड बना सकते हैं
  • हैदराबाद टेस्ट में मार्क वुड फ्लॉप रहे, और एंडरसन अगर खेलते तो तस्वीर बदल सकती थी

इंग्लैंड टीम के पूर्व कप्तान नास‍िर हुसैन ने इस बात की वकालत की कि जिस तरह का एंडरसन का एक्सपीर‍ियंस है, उनको टीम में होना चाहिए।

नास‍िर हुसैन ने कहा, “इंडियन सब कॉन्ट‍िनेंट में ज‍िमी एंडरसन (जेम्स एंडरसन) की स्क्ल‍िस में कुछ वर्षों में असाधारण रही हैं, एंडरसन जब टीम में होते हैं तो वो शानदार रहते हैं. वह इंग्लैंड के अब तक के सबसे महान गेंदबाज हैं, उन्हें खेलने की जरूरत है।”

IND VS ENG Test Match

नास‍िर हुसैन बोले अगर वो होते तो जरूर एंडरसन को ख‍िलाते.

एंडरसन के नाम 32 बार पारी में पांच विकेट हॉल हैं। 41 साल के जेम्स एंडरसन 700 टेस्ट विकेट लेने वाले दुनिया के तीसरे एवं पहले तेज गेंदबाज बनने की कगार पर हैं। मुथैया मुरलीधरन और शेन वॉर्न ने भी 700 का आंकड़ा क्रॉस किया था, हालांकि दोनों ही स्पिन गेंदबाजी करते थे।

एंडरसन कोई नए सितारे नहीं, वो अनुभव का समंदर हैं। 183 टेस्ट, 690 विकेट, 32 बार 5 विकेट हॉल, उनकी गेंदें कहानियां सुनाती हैं। भारत में खेलना उनके लिए कोई नई बात नहीं, 35 टेस्ट में 139 विकेट उनकी धार का सबूत हैं।

विकेट चटकाने का हुनर: स्विंग गेंदबाजी के जादूगर, एंडरसन की गेंदें हवा में नाचती हैं, बल्लेबाजों को छकाती हैं। विकेट लेने की उनकी भूख कम नहीं हुई, इसी दौरे पर 700 विकेट का पहाड़ फतह करना चाहते थे।

यह भी पढ़े- जीरो बैलेंस पर 10,000 रुपये तक का ओवरड्राफ्ट: प्रधानमंत्री जन धन योजना के तहत बैंक खाते के लाभ

यह भी पढ़े- आधार कार्ड को ईमेल आईडी से लिंक करना क्यों जरूरी है? जानिए पूरी जानकारी

यह भी पढ़े- 5 से 10 लाख रुपये तक के इलाज का कवर, आयुष्मान कार्ड के लिए पात्रता व आवेदन प्रक्रिया जानें

एंडरसन ने भारत के खिलाफ 35 टेस्ट मैचों में 24.89 के एवरेज से 139 विकेट लिए हैं। एंडरसन ने इस दौरान छह बार पारी में पांच या उससे ज्यादा विकेट झटके।

हैदराबाद टेस्ट में इंग्लैंड ने चार स्पिनरों को प्लेइंग इलेवन में शामिल किया। इसमें मार्क वुड भी शामिल थे, जो बुरी तरह से फ्लॉप रहे। वुड का बॉल‍िंग स्पेल 17-1-47-0 रहा। वो पूरी तरह से प्रभावहीन रहे। ऐसे में एंडरसन ज‍िनका भारत में खेलने का बड़ा अनुभव है. वो अगर खेलते तो शायद तस्वीर दूरी हो सकती थी।

निष्कर्ष:

जेम्स एंडरसन को हैदराबाद टेस्ट से बाहर करना इंग्लैंड का एक बड़ा गलती हो सकता है। एंडरसन भारत में खेलने के माहिर हैं, और उनके पास 700 टेस्ट विकेट लेने का बड़ा मौका है। अगर वह इस दौरे पर यह रिकॉर्ड बनाते हैं, तो यह इंग्लैंड के लिए एक बड़ी उपलब्धि होगी। इंग्लैंड ने हैदराबाद टेस्ट में चार स्पिनरों को खिलाया, मार्क वुड तेज गेंदबाजी संभाल रहे थे। मगर वुड फ्लॉप रहे, तो सवाल उठे कि एंडरसन होते तो क्या तस्वीर बदलती?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *